Saturday, February 13, 2010

मैं जनता हु की "लिप्स कैन लाई.. बट हिप्स डोंट लाई"

तूफानी बारिश में एक आदमी पिज्जा लेने दुकान पर गया,
दुकानदार ने पूछा आप शादी-शुदा हो,
आदमी ने कहा आपको क्या लगता है?
" इतनी बारिश में मेरी माँ ने मुझे पिज्जा लेने भेजा है...... "

भेजने वाली : आरती द्विवेदी



बंता -- क्या तुमने मूली का परांठा खाया हैं?
संता -- नहीं मैंने तो सैंडविच खाया हैं.
बंता -- झूठ मत बोल क्योंकि.... मैं जनता हु की "लिप्स कैन लाई.. बट हिप्स डोंट लाई"

भेजने वाले : गोल्डी राज

संता ने एक लड़की को प्रपोज किया,
लड़की बोली मैं तुम से 1 साल बड़ी हूँ।
संता बोले, ओये नो प्रोब्लम सोणिये, मैं तुम से अगले साल शादी करूँगा।

संता आर्ट गैलरी में पहुँच बोले,
इस खतरनाक सी दिखने वाली तस्वीर को आप मार्डन आर्ट कहते हो।
गैलरी वाला बोला, ‘माफ कीजिये सर, ये तो मिरर (दर्पण) है।

एक बार संता बहुत धीरे धीरे लिख रहे थे,
दोस्त ने कहा इतने धीरे क्या लिख रहे हो।
संता बोले अपने 6 साल के बेटे को लैटर लिख रहा हूँ वो तेज नही पढ़ सकता ना।

भेजने वाले : अशोक कुमार


मुस्किलो से आपकी मुलाकात न हो,
उदास बैठो कभी ऐसी बात न हो,
दुआ है के महेफिलो से सजे
ज़िंदगी आपकी... बस इस दोस्त को
याद कर लेना जब कोई साथ न हो.

भेजने वाले : अखिलेश

No comments:

Post a Comment

Translate