Friday, November 6, 2009

गब्बर की गणित



गब्बर: कितने आदमी थे?
संभा: सरकार दो..
गब्बर: मुझे गिनती नहीं आती है....दो कितने होते हैं?
संभा: सरकार दो ,एक के बाद आता है..
गब्बर: और दो से पहले ?
संभा: दो के पहले एक आता है..
गब्बर: (गुस्से से) तोह बीच में कौन आता है??
संभा: बीच में कोई नहीं आता है..
गब्बर: तोह फिर दोनों एक साथ क्यों नहीं आते..?
संभा: दो एक के बाद ही आता है , क्योकि दो एक से बड़ा है...
गब्बर: दो एक से बड़ा है ,कितना बड़ा है..?
संभा: दो एक से एक बड़ा है..
गब्बर: दो एक से एक बड़ा है तोह ,एक एक से कितना बड़ा है?
संभा: सरकार मैंने आप का नमक खाया है, मुझे गोली मार दो 







ये एक गाना मेरे एक बेनाम दोस्त ने दीया हैं और वो भी अपनी GF लक्ष्मी के लिए :-

कभी कभी मेरे दिल में ख्याल आता हैं की
तू भूतनी जैसी लगती हैं, या सच में ही भूतनी हैं
लेकिन ये ख्याल मुझे रात में भी आता हैं
और ख्याल आते ही मुझे डर लग जाता हैं की जैसे
तुझे रब ने बनाया हैं सब को डराने के लिए

No comments:

Post a Comment

Translate